Breaking

आईटीआई में डीजल मैकेनिक कोर्स क्या होता है | ITI Diesel Mechanic Course Details

यदि आप भी ITI की High स्कोप वाली मैकेनिकल ट्रेड को सर्च कर रहे है तो आपको एक बार ITI Diesel Mechanic Courese / Trade के बारे में जानना चाहिए | यहाँ हम आपको विस्तार से बताये है की आईटीआई की डीजल मैकेनिक ट्रेड क्या है | इसमें एडमिशन के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए | तथा इस ट्रेड का पाठ्यक्रम एवं जॉब के बारे  में | यदि आप भी जानने के इच्छुक है Diesel Mechanic Trade के बारे में तो यह पोस्ट आपके लिए महत्वपूर्ण हो सकती है | 


iTi Diesel mechanic course


डिजल मैकेनिक किसे कहते है | ITI Diesel Mechanic

डीजल मैकेनिक ट्रेड के अन्दर डीजल इंजन क्या होता है तथा उसमे कौन कौन से आंतरिक भाग लगे होते है का सम्पुर्ण ज्ञान होना डिजल मैकेनिक कहलाता है | ऑटोमोबाइल वर्कशॉप एक एसा प्रतिष्ठान है जहा ऑटोमोबाइल कि मरम्मत मैकेनिको और तक्निशियनो द्वरा कि जाति है उसे हि मैकेनिक डिजल कहते है | एक प्रशिक्षित डिजल मैकेनिक को मुल रुप से निरिक्षण करके और निवारक रखरखाव कि अवशयक्ताओ को पुरा करके डिजल इंजन को बानाए रखना होता है , इंजन की कमियो को ठिक करना समायोजन और संरेखन करना और रिकार्ड रखना होता है | उसे निरिक्षण और नैदानिक टेस्ट करके इंजन कि स्थिति निर्धारित करनि होति है और घिसे तथा क्षतिग्रस्त भागो की पहचान करनि होति है | उसे आवश्यकता अनुसार घटको की मरम्मत करना या उन्हे बदलना होता है | एसा करने के लिए मैकेनिक को इंजन के हर एक प्रकार की कमियो को दुर करने के लीए मरम्मत , समायोजन, ओवरहॉलिंग , असेम्बलि , डिससेमबलि करना और सबअसेम्बलि , घटको और सिस्टमो को बदलने से अछि तरह से परिचित होना चाहिए | जैसे जैसे परिवहन क्षेत्र पुरे देश मे बढता है अतिरिक्त डिजल – संचालित ट्रको कि जरुरत होगी | परिणामस्वरुप ट्रको को बानए रखने तथा उनकी मरम्मत करने के लिए डिजल मैकेनिको की आवशयकता होगी !


यह भी पढ़ें -

Diesel Mechanic कितने वर्ष का Course है एवं इसके लिए योग्यता क्या है

डिजल मैकेनिक की समयावधि 1 वर्ष की होती है ! इस ट्रेड में प्रवेश लेने के लिए 10वी पास योग्यता वीज्ञान और गणित विषय के साथ होनि चाहिए |


परन्तु कुछ राज्यों में गणित विषय को छोड़ रखा है और यदि छात्र के पास 10वी कक्षा में विज्ञान विषय भी होगा तो वह प्रवेश का पात्र माना जाएगा |


डिजल मैकेनिक के लिए शासकीय आई टी आई की बात करे तो वहा पर इसकी फीस एक वर्ष की अभी व वर्तमान में 4770 रूपए है तथा यह फ़ीस छात्रवती प्राप्त छात्रो को छात्रावती के रूप में वापस मिल जाती है |


यदि हम प्रायवेट आई टी आई की बात करे तो वहा पर इस कोर्स की फीस 30000 से 40000 के बिच रहती है ! यह ट्रेड दो पाट्यक्रम SCVT तथा NCVT के अंतगर्त संचालित किये जाते है |


यह भी पढ़ें - 

डिजल मैकेनिक में कौन कौन से सब्जेक्ट होते है

डिजल मैकेनिक के अन्दर निम्न सब्जेक्ट आते हे जो निचे दर्शाए गए है –

1. डिजल मैकेनिक थ्योरी – इस विषय के अन्दर सम्पुर्ण ट्रेड की थ्योरी से सम्बन्धित ज्ञान प्रदान किया जाता है तथा इसके अन्दर डिजल मैकेनिक मे प्रयोग होने वाले सभि इजन के भागो के बारे मे बताया जाता है !

2. एम्प्लोयबिलिटी स्किल्स – इस विषय का ज्ञान इस लिए प्रदान कीया जाता है जिससे की श्रमिको मे कौशल विकास उतपन्न हो जाए तथा उनमे बात करने के तौर तरिके समझ आ जाए |

3. इंजनियरिंग ड्राइंग – इस विषय के अन्दर प्रशिक्षणार्थि को ड्राइंग से सम्भन्धित ज्ञान प्रदान किया जाता है जिससे की वह किसी इंड्रस्टिज मे कार्य करते समय किसी पाटस कि डिजाइन को अच्छे से सम्झ सके |

4. वर्कशॉप केल्कुलेशन एंड साइंस – इस विषय के अन्दर प्रशिक्षणार्थि गणित का सम्पुर्ण ज्ञान दिया जाता है जिससे उसे ज़ॉब पिस बनाने मे साईज लेने मे कोई परेशानी उत्पन्न न हो तथा वह हर गणना आसानी से कर सके |

5. ट्रेड प्रेक्टिकल्स – यह विषय इस सब्जेक्ट की जान है जिसके माध्यम से एक डिजल मैकेनिक पुर्ण तरह से तैयार होता है इस विषय का ज्ञान पुरि तरह से प्रायोगीक ज्ञान होता है जिसके द्वरा प्रशिक्षाणार्थि को शिखाया जाता है की डिजल ट्रेड के अन्दर क़्या क़्या कार्य होते है |



डिजल मैकेनिक कोर्स क्यो करे

डिजल मैकेनिक कोर्स के अन्दर कई रोजगार के अवसर तथा व्यवसाय के अवसर खुल जाते है जिससे हम स्व्यम का जिवन व्यपान कर सकते है | इस कोर्स के माध्यम से आप ऑटोमोबाइल इंड्रस्टिज मे अपने भविष्य कि निव रख सकते है तथा इस कोर्स को करने के उपरांत किसी स्व्यम की ऑटोमोबाइल शॉप भी आप खोल सकते है जिससे आपके पास स्व्यम का रोजगार हो जाएगा |


इस कोर्स को 10 वि पास करने के बाद किसी भी शासकिय या निजी आई टी आई मे प्रवेश लेकर इस कोर्स को आप कर सकते है | इस कोर्स के अन्दर कोई व्यक्ति पर्याप्त सैद्धांतिक सहित व्यव्स्थित व्यवहारिक प्रशिक्षण की कठिनता से गुजरता हो और आई टी आई का काम यहि सब कुछ प्रदान करना है |


इस कोर्स के अन्दर माल ढुलाई ट्रकिंग और मोटर वाहन मरम्मत और रखरखाव उढ्योगो मे नए श्रमिको की मांग पुरी करने के लिए डिजल मैकेनिको के लीए नोकरियो मे व्रदि होने की उमिमिद है |


पर्यावरण के नियमो का अनुपालन करने के लिए, कुछ पुरने वाहनो को रेट्रोफिट और आधुनिकिकरण करने की आवश्यकता होगी, जिससे अतिरिक्त नौकरिया उतपन्न होगी |


जो लोग इस ट्रेड से औपचारिक प्रशिक्षण पुरा करते है और मजबुत तकनिकी कौशल प्राप्त करते है, उनके लिए नौकरी के अवसर अच्छे होंगे क्योकि नियोक्ता अक्सर योग्य और कुशल श्रमिको को खोजने मे कठिनाई का अनुभव करते है |


औपचारिक प्रशिक्षण के बिना श्रमिको को अक्सर दुसरो की तुलना मे अधिक सुपर्विजन और ऑन- दी- ज़ॉब निर्देशो की आवश्यकता होती है ! इसी कारण जो लोग प्रशिक्षित नहि होते है उन्हे नौकरियो के लिए कठोर कम्पीटिशन का सामना करना पडता है |



डिजल मैकेनिक में कौन कौन सी जॉब/रोजगार कर सकते है


डिजल मैकेनिक के अन्दर हम इस ट्रेड के दवारा रेलवे अप्रेंटीशिप कर सकते है जिसके अन्दर हमें प्रायोगिक कार्य सिखने को मिलता है जिसके अन्दर हमें 5000 से 9000 के बिच कुछ स्टाइफन्ड मिलता है यह आपकी सलेरी नहीं होती है|

सेलरी के लिए आपको नोकरी करने के लिए जाना पडता है जो किसी अन्य जगह कंपनी के माध्यम से मिलाती है ! इसके द्वारा हम भेल , इंडियन ऑइल , आइसर, होंडा , इत्यादि कंपनी में कार्य कर सकते है |

इसके अंतगर्त कुछ अन्य सेक्टर भी आते है जो इस प्रकार है ओटोमोबाइल इंडस्ट्रीज, NPC , बिल्डिंग वर्क इत्यादि ! इस ट्रेड के माध्यम से हम स्वयं का व्यवसाय भी शुरू कर सकते है जैसे स्माल स्केल इंडस्ट्रीज , मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्रीज , प्रोडक्शन इंडस्ट्रीज इत्यादि में हम स्वयं का कार्य शुरू कर सकते है |


Final Word - उम्मीद करते है यह जानकरी आपको जरुर पसंद आई होगी | इस पोस्ट डीजल मैकेनिक से जुडी अन्य किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए हमें निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें | और हमारे नये पोस्ट की जानकारी के लिए हमसे सोशल मीडिया पर जुड़े |

No comments:

Post a Comment